Sr. Secondary Courses

द फर्स्ट रैंक ओपन स्कूल एंव कोचिंग एक बहुउद्देश्यीय शिक्षण संस्था है जो विद्यालय स्तर पर शैक्षणिक पाठ्यक्रमों का संचालन करती है। इसके अंतर्गत छठी से 12वीं तक के पाठ्यक्रमों का संचालन एंव प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करायी जाती है |


उच्च माध्यमिक पाठ्यक्रम (Sr. Secondary)

विषयों का चयन


उच्च माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी कला, विज्ञान एवं वाणिज्य वर्ग के विभिन्न विषयों का आवश्यकतानुसार भविष्य की भावी योजनाओं को मद्देनजर रखते हुए चयन करें। यदि आप उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं, तो यह जरूरी है कि जिस बोर्ड/ विश्वविद्यालय में प्रवेश प्राप्त करना चाहते हैं, उसकी शर्तों को ध्यान में रखते हुए विषयों का चयन करें।


कुछ बोर्ड/ विश्वविद्यालय अपनी संस्थाओं में प्रवेश के लिए कुछ विशेष विषयों का संयोजन माँगते हैं। उदाहरण के लिए मेडिकल पाठ्यक्रम में प्रवेश हेतु रसायन विज्ञान, जीव-विज्ञान और भौतिक के साथ दो भाषाओं का विषय संयोजन आवश्यक है। इसी प्रकार इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम में प्रवेश लेना चाहते हैं तो जीव विज्ञान के स्थान पर गणित विषय ले सकते हैं। प्रवेश के समय अपनी इच्छा या आवश्यकता होने पर एक या दो अतिरिक्त विषय भी ले सकते हैं। पाँच चयनित विषयों में से कम से कम एक भाषा अथवा अधिकतम दो भाषाएँ होनी चाहिए। चयनित पाँच विषयों के साथ एक या दो अतिरिक्त विषय स्वेच्छा से ले सकते हैं। इस प्रकार न्यूनतम पाँच एवं अधिकतम सात विषय चुन सकते हैं।


  • कुल पाँच विषय जिनमें से ग्रुप A से एक अथवा दो भाषाएँ और शेष विषय ग्रुप B,C एवं D से चुने।
  • किसी भी ग्रुप से दो अतिरिक्त विषय लिए जा सकते हैं अथवा अलग-अलग ग्रुप से एक-एक विषय ले सकते हैं।

विषय सुची
ग्रुप-A ग्रुप-B (विज्ञान वर्ग) ग्रुप-C (कॉमर्स वर्ग) ग्रुप-D (कला वर्ग)
हिन्दी
अंग्रेजी
उर्दू
संस्कृत
पंजाबी
गुजराती
*जीव विज्ञान
*भौतिक विज्ञान
*रसायन विज्ञान
गणित
अर्थशास्त्र
वाणिज्य (व्य. अध्य.)
लेखाशास्त्र
गणित
राजनीति विज्ञान
समाजशास्त्र
इतिहास
मनोविज्ञान
*गृह विज्ञान
*पेन्टिंग
*भूगोल
*पर्यावरण विज्ञान
*डेटा एन्ट्री ऑपरेशन
*कम्प्यूटर विज्ञान
कानून का परिचय
*जन संचार

नोट : स्टार (*)द्वारा दर्शाये गये विषयों में सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक दोनों है।


परीक्षा योजना माध्यमिक
विषय सैद्धान्तिक TMA (सत्रांक) प्रायोगिक अधिकतम अंक
हिन्दी 80 20 - 100
अंग्रेजी 80 20 - 100
उर्दू 80 20 - 100
गणित 80 20 - 100
अर्थशास्त्र 80 20 - 100
वाणिज्य (व्य. अध्य.) 80 20 - 100
लेखाशास्त्र 80 20 - 100
राजनीति विज्ञान 80 20 - 100
समाजशास्त्र 80 20 - 100
इतिहास 80 20 - 100
मनोविज्ञान 80 20 - 100
*जीव विज्ञान 64 16 20 100
*भौतिक विज्ञान 64 16 20 100
*रसायन विज्ञान 64 16 20 100
*गृह विज्ञान 64 16 20 100
*पेन्टिंग 24 06 70 100
*भूगोल 64 16 20 100
*डेटा एन्ट्री ऑपरेशन 32 08 60 100
*कम्प्यूटर विज्ञान 48 12 40 100
*जन संचार 64 16 20 100

महत्वपूर्ण टिप्पणी

  • स्टार (*) द्वारा दर्शाये गये विषयों में सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक दोनों है।
  • विद्यार्थी को प्रायोगिक एवं सैद्धान्तिक दोनों परीक्षाओं में भाग लेना अनिवार्य होगा।
  • विद्यार्थी को ऐसे विषय जिनमें सैद्धान्तिक एवं प्रायोगिक परीक्षा होती है उनमें विद्यार्थी को उत्तीर्ण होने के लिए सैद्धान्तिक एवं प्रायोगिक दोनों में अलग-अलग न्यूनतम 33 प्रतिशत अंक प्राप्त करने होंगे।
  • सत्रीय कार्य जमा कराना अनिवार्य होगा ऐसा नहीं करने पर परीक्षा परिणाम पर पडऩे वाले प्रभाव के लिए विद्यार्थी स्वयं जिम्मेदार होगा।

योजना-1 (12वीं फेल विद्यार्थी हेतु)


ऐसे विद्यार्थी जिन्होंने किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं की परीक्षा दी हो किन्तु 12वीं उत्तीर्ण नहीं कर पाये हो इस योजना के माध्यम से प्रवेश लेकर पुन: सितम्बर-नवम्बर में 12वीं की परीक्षा दे सकते हैं। ऐसे विद्यार्थी जो कम से कम दो विषयों में उत्तीर्ण हों, केवल तीन विषयों की परीक्षा देकर भी सफलता प्राप्त कर सकते हैं तथा अधिकतम पाँच विषय भी ले सकते हैं। दो विषयों मे उत्तीर्ण होने का लाभ तभी मिलेगा जब विद्यार्थी के द्वारा संस्थान में प्रवेश लेने तथा फेल होने के मध्य समय अन्तराल पाँच वर्ष से अधिक न हो।

प्रवेश प्रारम्भ तिथि 15 मई से
आयु सीमा 1 जुलाई को न्यूनतम आयु 15 वर्ष होनी चाहिए।
न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता COBSE द्वारा मान्यता प्राप्त बोर्ड से दसवीं पास तथा 12वीं फेल
नियमित कक्षा-कक्ष अध्ययन 01 जुलाई से 30 अगस्त
प्रायोगिक परीक्षा 05 सितम्बर से 25 सितम्बर
प्री-बोर्ड परीक्षा 15 सितम्बर से 25 सितम्बर
शुल्क विवरण शुल्क विवरण हेतु विद्यार्थी शुल्क तालिका देखें।
बोर्ड परीक्षा अवधि अक्टूबर-नवम्बर में संभावित
परीक्षा परिणाम सामान्यत: बोर्ड द्वारा परीक्षा परिणाम अन्तिम परीक्षा के 6 से 8 हफ्ते पश्चात घोषित किया जाता है।

शिक्षण शुल्क : नियमित विद्यार्थी शिक्षण शुल्क सुविधानुसार एक, दो या अधिकतम तीन किश्तों में जमा करा सकते हैं। ध्यान रहे एक से अधिक किश्तों में शिक्षण शुल्क जमा कराने पर प्रत्येक किश्त के साथ 200 रु. अतिरिक्त शुल्क जमा कराना होगा।


योजना-2 - 10वीं पास/ 11वीं फेल विद्यार्थी हेतु

ऐसे विद्यार्थी जो 10वीं पास/ 11वीं फेल हों, इस योजना के माध्यम से सीधे 12 वीं में प्रवेश ले सकते हैं यदि न्यूनतम आयु पूर्ण कर चुका हो। ऐसे विद्यार्थियों को सलाह दी जाती है कि वह कम से कम सात विषयों का चयन करें।

प्रवेश प्रारम्भ तिथि 01 अप्रैल से
आयु सीमा 01 जुलाई को न्यूनतम आयु 15 वर्ष होनी चाहिए।
न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता COBSE द्वारा मान्यता प्राप्त बोर्ड से दसवीं उत्तीर्ण तथा 11वीं अनुत्तीर्ण।
नियमित कक्षा-कक्ष अध्ययन 01 जुलाई से 28 फरवरी
प्रायोगिक परीक्षा 05 मार्च से 25 मार्च
प्री-बोर्ड परीक्षा 16 मार्च से 25 मार्च
शुल्क विवरण शुल्क विवरण हेतु विद्यार्थी शुल्क तालिका देखें।
बोर्ड परीक्षा अवधि अप्रैल-मई में संभावित
परीक्षा परिणाम सामान्यत: बोर्ड द्वारा परीक्षा परिणाम अन्तिम परीक्षा के 6 से 8 हफ्ते पश्चात घोषित किया जाता है।

शिक्षण शुल्क : नियमित विद्यार्थी शिक्षण शुल्क सुविधानुसार एक, दो या अधिकतम तीन किश्तों में जमा करा सकते हैं। ध्यान रहे एक से अधिक किश्तों में शिक्षण शुल्क जमा कराने पर प्रत्येक किश्त के साथ 200 रु. अतिरिक्त शुल्क जमा कराना होगा।


योजना-3 - 10वीं (जून में) पास विद्यार्थी हेतु

ऐसे विद्यार्थी जो मार्च-मई में 10वीं उत्तीर्ण करने के बाद तत्काल सीधे 12वीं में प्रवेश लेते हैं तो मार्च-मई (अगले वर्ष) में केवल 4 विषयों की परीक्षा दे सकेंगे जबकि इन विषयों में से किसी में अनुत्तीर्ण होने पर उस विषय की परीक्षा सितम्बर-नवम्बर में तथा शेष पंजीकृत विषयों की परीक्षा मार्च-मई (अगले वर्ष) में दे पायेंगे अर्थात् विद्यार्थी 10वीं करने के पश्चात 2 वर्ष के निर्धारित समय में 3 बार परीक्षा देकर 12वीं उत्तीर्ण कर सकता है। ऐसे विद्यार्थियों को सलाह दी जाती है कि वह कम से कम सात विषयों का चयन करें।

प्रवेश प्रारम्भ तिथि 15 जून से
आयु सीमा 1 जुलाई को न्यूनतम आयु 15 वर्ष होनी चाहिए।
न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता COBSE द्वारा मान्यता प्राप्त बोर्ड से दसवीं उत्तीर्ण।
नियमित कक्षा-कक्ष अध्ययन 01 जुलाई से 28 फरवरी तक
प्रायोगिक परीक्षा 05 मार्च से 25 मार्च
प्री-बोर्ड परीक्षा 16 मार्च से 25 मार्च
शुल्क विवरण शुल्क विवरण हेतु विद्यार्थी शुल्क तालिका देखें।
बोर्ड परीक्षा अवधि अप्रैल-मई (पंजीकृत विषयों में से कोई भी चार का चयन करें)
परीक्षा परिणाम सामान्यत: बोर्ड द्वारा परीक्षा परिणाम अन्तिम परीक्षा के 6 से 8 हफ्ते पश्चात घोषित किया जाता है।

शिक्षण शुल्क : नियमित विद्यार्थी शिक्षण शुल्क सुविधानुसार एक, दो या अधिकतम तीन किश्तों में जमा करा सकते हैं। ध्यान रहे एक से अधिक किश्तों में शिक्षण शुल्क जमा कराने पर प्रत्येक किश्त के साथ 200 रु. अतिरिक्त शुल्क जमा कराना होगा।


योजना-4 - 10वीं पास (दिसम्बर में) विद्यार्थी हेतु

ऐसे विद्यार्थी जो दिसम्बर तक 10वीं उत्तीर्ण करने के बाद तत्काल सीधे 12वीं में प्रवेश लेते हैं तो सितम्बर-नवम्बर (अगले वर्ष) में केवल 4 विषयों की परीक्षा दे सकेंगे जबकि इन विषयों में से किसी में अनुत्तीर्ण होने पर उस विषय में तथा शेष पंजीकृत विषयों की परीक्षा मार्च-मई (अगले वर्ष) में दे पायेंगे अर्थात् विद्यार्थी 10वीं उत्तीर्ण करने के पश्चात 2 वर्ष के निर्धारित समय में 2 बार परीक्षा देकर 12वीं उत्तीर्ण कर सकता है। ऐसे विद्यार्थियों को सलाह दी जाती है कि वह कम से कम सात विषयों का चयन करें।

प्रवेश प्रारम्भ तिथि 1 दिसम्बर से
आयु सीमा 1 जनवरी को न्यूनतम आयु 15 वर्ष होनी चाहिए।
न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता मान्यता प्राप्त बोर्ड से दसवीं उत्तीर्ण।
नियमित कक्षा-कक्ष अध्ययन 01 जनवरी से 30 सितंबर तक
प्रायोगिक परीक्षा 05 सितम्बर से 25 सितम्बर
प्री-बोर्ड परीक्षा 15 सितम्बर से 25 सितम्बर
शुल्क विवरण शुल्क विवरण हेतु विद्यार्थी शुल्क तालिका देखें।
बोर्ड परीक्षा अवधि सितम्बर-नवम्बर (पंजीकृत विषयों में से कोई भी चार का चयन करें)
परीक्षा परिणाम सामान्यत: बोर्ड द्वारा परीक्षा परिणाम अन्तिम परीक्षा के 6 से 8 हफ्ते पश्चात घोषित किया जाता है।

शिक्षण शुल्क : नियमित विद्यार्थी शिक्षण शुल्क सुविधानुसार एक, दो, तीन या अधिकतम चार किश्तों में जमा करा सकते हैं। ध्यान रहे एक से अधिक किश्तों में शिक्ष1ण शुल्क जमा कराने पर प्रत्येक किश्त के साथ 200 रु. अतिरिक्त शुल्क जमा कराना होगा।


योजना 3 व 4 के लिए ध्यान देने योग्य

उच्चतर माध्यमिक पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी यह अवश्य सुनिश्चित कर लें कि उच्चतर माध्यमिक स्तर पर प्रमाण-पत्र प्राप्त करने के लिए, माध्यमिक परीक्षा उत्तीर्ण करने के वर्ष से दो वर्ष का अन्तर आवश्यक है। यदि आपका दो वर्ष का अन्तर नहीं है तो आप आने वाली अप्रेल-मई और उसके बाद अक्टूबर-नवम्बर की परीक्षाओं में अधिकतम चार विषयों की परीक्षा में ही बैठ सकते हैं। शेष विषयों की परीक्षा में बैठने के लिए आप तभी योग्य होंगे जब दो वर्ष का अनिवार्य अन्तर पूरा हो जाएगा।


Note:

TMA (सत्रांक मूल्यांकन) जमा कराने की तिथिया
अप्रैल-मई परीक्षा 31 जनवरी
अक्टुबर-नवंबर परीक्षा 31 जुलाई

विशेष: स्ट्रीम-2 (10वी, 12वी फेल) तक को TMA लाभ नहीं मिलेगा |